चकिया जिला अस्पताल पहुंचे डीएम तो गायब मिले इतने डाक्टर व स्टाफ

बाहर से दवा व जांच लिखे जाने पर जताई नाराजगी‚ दी चेतावनी
चंदौली। जिलाधिकारी संजीव सिंह ने शनिवार को जिला संयुक्त चिकित्सालय चकिया का औचक निरीक्षण किया। इस दौरान जिलाधिकारी ने मरीजों से स्वास्थ्य की जानकारी ली। डढिया निवासी मरीज सुनीता देवी द्वारा बताया गया कि डॉक्टरों के द्वारा मरीजों को बाहरी दवाइयां व जांच लिखी जाती है। वहां मौके पर डीएम को अन्य मरीजों के पास बाहर से दवा व जांच लिखे गए पर्चे मिले। इस पर उन्होंने डा.अलका राय व ओपीडी देख रहे अन्य चिकित्सक के द्वारा भी बाहरी दवाओं व जांच की पर्चियां पाई गई। साथ ही बिना सूचना के गैरहाजिर चिकित्सक व कर्मचारियों का एक दिन का वेतन काटने का निर्देश जिलाधिकारी ने दिया।
अल्ट्रासाउंड करने के लिए तैनात चिकित्सक का पद खाली रहने की जानकारी पर जिलाधिकारी ने शासन को पत्र भेजने के लिए कहा। चिकित्सक व पैरामेडिकल स्टाफ को जिलाधिकारी ने सख्त निर्देश देते हुए कहा कि बाहर की दवाई क़त्तई न लिखा जाए। आम जनता को स्वास्थ्य सुविधाओं का लाभ शासन के मंशा के अनुरूप आसानी से उपलब्ध होता रहे इसके लिए शख्त निर्देश दिए। जिलाधिकारी ने मुख्य चिकित्सा अधीक्षक को निर्देशित करते हुए कहा कि स्टोर में जो भी दवाइयां उपलब्ध हैं उसकी सभी चिकित्सकों की सूची प्रतिदिन प्रस्तुत किया जाए, ताकि बाहर की दवा लिखने की बात संज्ञान में न आए। जिलाधिकारी के निरीक्षण में पांच चिकित्सक व अन्य पैरामेडिकल स्टाफ अनुपस्थित पाए गए, जिस पर जिलाधिकारी ने कार्यवाही के साथ एक दिन का वेतन काटने के निर्देश दिए। इसके अलावा बाहर गेट के पास मेडिकल की दुकानों की भी जांच की गई सरकारी चिकित्सक के द्वारा काटे गए पर्चियो की जांच करते हुए कार्रवाई करने के निर्देश जिलाधिकारी ने दिए। मेडिकल स्टोर, अल्ट्रासाउंड सहित अन्य मेडिकल दुकानों की जांच की गई। जिलाधिकारी द्वारा अस्पताल के निरीक्षण के तत्पश्चात ऑक्सीजन प्लांट के लिए बन रहे फाउंडेशन को देखा गया। जिलाधिकारी ने निर्देशित करते हुए कहा कि निर्माण कार्य में मानक की अनदेखी कतई न हो इसका विशेष ध्यान रखा जाए। कहा कि चिन्हित बच्चों को भी भर्ती कर बेहतर स्वास्थ्य सुविधा मुहैया कराया जाए जिससे कि बच्चे निरंतर स्वस्थ रहे। इसका विशेष ध्यान रखा जाए इसमें किसी भी प्रकार की लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी।