तहसील दिवस का लेखपालों ने किया बहिष्कार,चेताया उत्पीड़न बंद नहीं किया तो उग्र होगा आंदोलन


चंदौली। सदर तहसील परिसर में शनिवार से लेखपालों ने कार्य बहिष्कार कर अनिश्चितकालीन धरना शुरू किया। इस दौरान अधिकारियों के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। चेताया कि उत्पीड़न बंद नहीं किया गया तो उग्र आंदोलन किया जाएगा। चेताया कि लेखपाल राकेश यादव पर की गई निलंबन की कार्रवाई वापस नहीं ली गई तो धरना जारी रखा जाएगा।
इस अवसर पर वक्ताओं ने कहा कि लेखपाल तहसील स्तर पर शासन की महत्वपूर्ण योजनाओं का निष्पादन पूरी निष्ठा से कर रहे हैं। हर लेखपाल एक से अधिक क्षेत्रों व पटलों पर कार्य कर रहा है। इसके बाद भी तहसील स्तर के अधिकारियों की ओर से लेखपालों का शोषण व उत्पीड़न किया जा रहा है। अधिकारी लेखपालों को अनुचित तरीके से निलंबित कर रहे हैं और जांच अधिकारी के नाम पर अवैध रूप से धन वसूल किया जा रहा है। वर्तमान में समस्त तहसीलों में लेखपालों के निलंबन की कार्रवाई की गई है। इस क्रम में सदर तहसील में कार्यरत लेखपाल राकेश कुमार को अनुचित तरीके से गलत रिपोर्ट लगाने का दबाव बनाया गया। साथ ही निलंबित करने का काम किया गया। लेखपालों में भय का माहौल बनाकर कार्रवाई कर अवैध वसूली की जा रही है। कहा कि आय, जाति, निवास, डोंगल व डाटा चार्ज का पैसा प्रदेश के अन्य जिलों में कई बार मिल चुका है। किन्तु अभी तक जनपद में एक बार भी उक्त धनराशि का वितरण नहीं किया गया। जबकि लेखपाल लगातार आनलाइन कार्य कर रहे हैं। चेताया कि 31 अक्तूबर तक उक्त भुगतान नहीं किया गया तो आनलाइन कार्य रोकने को बाध्य होना पड़ेगा। चेताया कि यदि तीन दिन में निलंबन वापस नहीं लिया गाया तो सभी लेखपाल अधिकारिक वाट्अप ग्रुप छोड़ने को विवश होंगे। साथ ही आंदोलन को जारी रखा जाएगा। इस मौके पर सदर अध्यक्ष संदीप, मंचानन्द त्रिगुण, अजय प्रजापति, मनीष सिंह, रविंद्र कुमार, नीरज सिंह, बच्चाराम, शिवपूजन यादव, धर्मेंद्र यादव, शशिकला, माधुरी पांडेय, रूपा जायसवाल, प्रतिमा, शबनम खान, प्रियंका, नम्रता सिंह, नेहा सिंह, आनन्द राव, प्रद्युम्न सिंह, संजय यादव सहित अन्य मौजूद रहे।