नहीं रहे चंदौली के मजबूत राजनीति स्तम्भ पूर्व प्रमुख वीरेंद्रनाथ सिंह!

पूर्व प्रमुख विरेंद्रनाथ सिंह
पूर्व प्रमुख विरेंद्रनाथ सिंह

Young Writer, चंदौली। जिले के राजनीति का एक मजबूत स्तम्भ रहे चंदौली के पूर्व प्रमुख वीरेंद्रनाथ सिंह अब नहीं रहे। उन्होंने लम्बी बीमारी से जुझते हुए 79 वर्ष की अवस्था में उन्होंने बीएचयू में शनिवार को अंतिम सांस ली। उनके निधन से समाजवादी विचारधारा में आस्था रखने वाले वीरेंद्रनाथ सिंह का व्यक्तित्व अब इतिहास के पन्नों में दर्ज हो जाएगा। उन्हें सफल व सशक्त व अपने मूल्यों व सिद्धांतों के साथ राजनीति करने वाले राजनेताओं के रूप में जाना जाता रहेगा। निधन की सूचना के साथ ही चंदौली मुख्यालय व उनके पैतृक गांव जसुरी समेत पूरे जनपद में शोक ी लहर दौड़ गयी।

निधन के बाद उनके शव को पैतृक गांव जसुरी लाया गया, जहां उनके अंतिम दर्शन को पूरा गांव उमड़ पड़ा। इसके अलावा उनके घर-परिवार व रिश्तेदारों ने उन्हें श्रद्धा-सुमन अर्पित किया। इसके बाद उनके शव को चंदौली बबुरी रोड स्थित उनकी मड़ई पर लाया और तत्पश्चात उनके शव को सदर ब्लाक चंदौली में श्रद्धा-सुमन व अंतिम दर्शन के लिए रखा गया। वहां ब्लाक कर्मियों के साथ ही जनपद के विभिन्न इलाकों से आए उनके समर्थकों व चाहने वालों ने अंतिम विदाई दी।
विदित हो कि प्रमुख जी के नाम से मशहूर वीरेंद्रनाथ सिंह का चंदौली की राजनीति में खासा दबदबा रहा। खासकर सदर ब्लाक में वर्षों तक उनकी हनक चलती रही। खुद भी लंबे समय तक ब्लाक प्रमुख रहे। उनके बाद उनके राजनीतिक दायित्व को उनकी पत्नी, बहू और बेटे संजय सिंह बबलू ने ब्लाक प्रमुख की कुर्सी के साथ ही उससे जुड़े दायित्व को भी बखूबी संभाला और उनकी विरासत को बनाए और बचाए रखा। वर्तमान में संजय सिंह बबलू चंदौली ब्लाक प्रमुख हैं। इनके परिवार की सपा और बीजेपी दोनों दलों में उनकी गहरी पैठ थी। बड़े नेताओं से अच्छे संबंध थे। 1996 में सपा के टिकट पर चिरईगांव से विधानसभा का चुनाव लड़ा लेकिन जीत से कुछ दूर रह गए। मुगलसराय विधान सभा सीट पर भी किस्मत आजमाई लेकिन यहां भी निराशा हाथ लगी। इसके बाद जनता पार्टी के टिकट पर लोक सभा चुनाव में भी उतरे थे। लेकिन उन्हें ब्लाक प्रमुख की कुर्सी ही रास आई। इसके अलावा जिला पंचायत सदस्य भी रहे। उनके निधन से समर्थक काफी मर्माहत हैं। उनके निधन पर जनपद के विभिन्न राजनीति दलों के नेता श्रद्धांजलि देने और उनकी शवयात्रा में शामिल हुए। इस दौरान पूर्व सांसद रामकिशुन, विधायक रमेश जायसवाल, पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष छत्रबली सिंह, धानापुर प्रमुख अजय सिंह, कांग्रेस जिलाध्यक्ष धर्मेन्द्र तिवारी, राजेश कुमार सारंग, महेंद्र सिंह, मनोज सिंह, अरविंद पासवान, दिलीप पासवान, सुनील यादव गुड्डू, सुदर्शन सिंह‚ अखिलेश्वर यादव‚ डा. रामचन्द्र शुक्ल‚ जगमेंद्र यादव‚ शशिशंकर सिंह, अभिमन्यु सिंह, बनारसी यादव, विरेंद्र जायवाल आदि शामिल रहे।
इनसेट—
लोकतंत्र में नागरिक सम्मान के पक्षधर थेः डा. उमेश सिंह
चंदौली।
चंदौली के पूर्व प्रमुख वीरेंद्रनाथ सिंह के निधन से मर्माहत ललित निबंधकार डा. उमेश प्रसाद सिंह ने उनके व्यक्तित्व को शानदार व सशक्त बताया। उन्होंने कहा कि चंदौली के पूर्व ब्लाक प्रमुख वीरेंद्रनाथ सिंह के निधन का समाचार दुखद है। वे राजनीति में विचार की दृढ़ता के मिशाल थे। उन्होंने लोकतंत्र में नागरिक के सम्मान के प्रबल पक्षधर थे। जनता की सहायता के लिए संघर्ष करना उनका स्वभाव था। एक लम्बे समय तक वे चंदौली के स्वाभिमान के प्रतीक पुरूष की तरह स्थापित थे। वे राजनीति और समाज के लिए सदैव स्मरणीय रहेंगे।