पूर्वांचल में समाजवादी पार्टी की नींव को मजबूती देंगे सपा के नए साथी


पूर्वांचल, डेस्क। समाजवादी पार्टी अपने संगठनात्मक ढांचे को तेजी से मजबूत कर रही है। सपा प्रमुख अखिलेश यादव की बसपा समेत अन्य राजनीतिक दलों में सेंधमारी कर दिग्गजों को अपने पाले में लाने की योजना काफी हद तक सफल होती नजर आ रही है। अभी हाल ही में बसपा के कई दिग्गज नेता टूटकर समाजवादी पार्टी की विचारधारा व सिद्धांतों को अपनाते हुए सदस्यता ली। बलिया से बसपा नेता अम्बिका चौधरी की दल में वापसी हुई। यह पल उनके लिए इतना भावुक रहा कि वे अखिलेश यादव के समक्ष ही रो पड़े। इससे उनके दूसरे दल में जाने की पीड़ा को समझा जा सकता है। लेकिन वह अकेले नहीं आए। इनके साथ बसपा की एक बड़ी टीम टूटकर सपा में समाहित हो गयी।
उनके साथ आजमगढ़ मंडल के चीफ जोनल कोआर्डिनेटर विनायक मौर्य, दिनेश यादव, बलिया में बसपा के जिला उपाध्यक्ष शिव नारायण यादव, प्रभुनाथ राजभर, राजेंद्र यादव आदि ने लखनऊ प्रदेश मुख्यालय पर बसपा की सदस्यता को छोड़कर सपा में शामिल है।

वहीं बलिया के जिला पंचायत सदस्यत आनंद चौधरी, अभय नारायण गिरि, जिला पंचायत सदस्य राजीव यादव के साथ ही कई स्थानीय दिग्गज सपा में शामिल हुए। इससे बलिया में समाजवादी पार्टी आगामी विधानसभा चुनाव के दौरान एक बार फिर अपने रौ में नजर आएगी। इसकी पूरी संभावनाएं है।
इसके अतिरिक्त गाजीपुर जनपद से भी कई दिग्गज सपा में शामिल हुए, जिसमें मुख्तार अंसारी के बड़े भाई सिब्गतुल्लाह अंसारी के साथ सुहेब अंसारी, सलमान अंसारी तथा रेयाज अहमद अंसारी के नाम शामिल है। इसके अतिरिक्त कई पूर्व प्रमुख, पूर्व प्रधान, जिला पंचायत सदस्य, क्षेत्र पंचायत सदस्य, वार्ड सभासद भी समाजवादी रंग में रंग गए, जो चुनाव के वक्त बूथ व सेक्टर स्तर पर सपा को मजबूती देंगे और इनकी मजबूती किसी भी परिणाम को जीत में बदलने के लिहाज से प्रभावी होगी। क्योंकि ये सभी अपने जिले, विधानसभा व क्षेत्र में जमीनी रूप से जुड़े हैं और अपने राजनीतिक रसूख, अनुभव का पूरा लाभ पार्टी को पहुंचाएंगे।