सपा नेता चंद्रशेखर ने गरीब बेटियों की शिक्षा का संभाला जिम्मा

चंदौली। यहां उन गरीब बेटियों की शिक्षा को जारी रखने माकूल प्रबंध है जो आर्थिक रूप से कमजोर हैं। जी हां! नियामताबाद के सेक्टर-5 से विजयी जिला पंचायत सदस्य बबिता सिंह के पति चंद्रशेखर यादव ने अपने घर के दरवाजे उन गरीबों के लिए खोल दिया है जो आर्थिक तंगी के कारण न तो ठीक ढंग से अपने अपनी बच्चियों का पेट पाल सकते हैं और ना ही उन्हें जरूरी शिक्षा ही दिला पा रहे हैं। इसका ऐलान करते हुए उन्होंने कहा कि यदि वह आवाम के काम नहीं आ सके तो समाजसेवी होना बेमानी होगी।
उन्होंने कहा कि अपने शक्ति और सामथ्र्य की परिधि में गरीबों व असहायों के लिए जो भी बन पड़ेगा उसे करने का काम किया जाएगा। जन कल्याण के लिए सरकारी योजनाओं की मदद ली जाएगी, लेकिन यहां जरूरत पड़ेगी वह अपने निजी संसाधनों को भी गरीबों के कल्याण के लिए समर्पित कर देंगी। उन्होंने इस कार्य के लिए प्रेरित करने के लिए अपने पत्नी बबिता यादव का आभार जताया। कहा कि पत्नी की प्रेरणा से समाजसेवा के क्षेत्र में बहुत कुछ करने का मौका मिला है। ऐसे अवसरों ने जहां दूसरों के जीवन में रंग भरने का अवसर प्राप्त हुआ, वहीं खुद भी मुझे खुशी व उत्साह का अनुभव हुआ। कहा कि समाज के सम्पन्न वर्ग को अपने पास-पड़ोस के गरीबों के कल्याण की बीड़ा उठाना होगा, तभी समाज में समानता व समरसता की परिकल्पना को पूर्ण किया जा सकेगा। कहा कि अनाथ बेटियों, मजबूर की बेटियों व रिक्शा-ट्राली खींचकर आजीविका चलाने वाले परिवार की बेटियों की शिक्षा का जिम्मा अब हमारी जिम्मेदारी होगी। इस दायित्व को पूरी निष्ठा के साथ निर्वहन करने का पूरा प्रयास किया जाएगा।