हत्यारे सांड ने बुझा दिया घर का चिराग परिजनों में मचा कोहराम चार बहनों के बीच एकलौता था भाई

पुर्वांचल डेस्क वाराणसी। जिले के रामनगर थाना क्षेत्र के रत्तापुर निवासी एक युवक पर सांड ने अचानक हमला बोल दिया। इससे युवकों गंभीर रूप से घायल हो गया।और उसके गर्दन की हड्डी टूट गयी। जहा इलाज के दौरान उसकी मौत हो गयी।
 बताते है कि संदीप विश्वकर्मा 25 वर्ष चार बहनों के बीच एकलौता भाई था। इस घटना में मृतक के में परिजनों में कोहराम मच गया है।आसपास के लोग भी घर का इकलौता चिराग बुझने से दुखी हैं संदीप प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहा था । उसके एक भाई की मौत पिछले साल बीमारी की वजह से हो गई थी । बता दें कि कुछ दिनों पहले क्राइम ब्रांच का सिपाही सूरज सिंह भी रामनगर में सांडों के प्रकोप का शिकार बना था । लोगों का आरोप है कि रामनगर नगर पालिका की लापरवाही से यह घटना हुई है । इससे पहले भी सांडों ने एक बच्चे को कुछ दिन पूर्व घायल किया था वहीं स्थानीय लोगों की मानें तो इन दिनों पहले से भी ज्यादा आवारा पशु रामनगर के विभिन्न इलाकों में आ गये हैं । रामनगर में किला रोड पर भारी संख्या में साँड़ रहते है , जिससे लोगों को आवागमन में भी परेशानी होती है । अक्सर सांडों की वजह से जाम की भी स्थिति उत्पन्न हो जाती है । लेकिन नगर पालिका प्रशासन इस पर ध्यान नहीं दे रहा । इसका खामियाजा लोगों को भुगतना पड़ रहा है । हालत ये है कि आवारा पशुओं के डर के मारे कॉलोनी में बच्चे अकेले निकल नहीं पा रहे हैं । बता दें कि जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा ने भी बीते दिनों लोगों की अपील पर रामनगर क्षेत्र में घूमने वाले आवारा पशुओं को हटवाने का आदेश दिया था , एक दो दिन तक नगर पालिका की ओर से मुहिम भी चली लेकिन फिर वही ढाक के तीन पात वाली कहावत चरितार्थ करते हुए पालिका कर्मचारियों ने पुराना ढर्रा अख्तियार कर लिया । रविवार को हुई इस घटना से लोगों में असंतोष है