सराहनीय: पुलिस ने चार घंटे से खोए हुए बच्चे को परिजनों से मिलाया। परिजनों ने पुलिस को दिया धन्यवाद

चंदौली। नगर के वार्ड नंबर आठ आजाद नगर से दो वर्षीय बालक खेलते हुए अपने परिवार से बिछड़ गया। इससे परिजनों में खलबली मच गयी। छोटे बच्चे को अकेले इधर-उधर भटकता देख अपने निजी कार्य से बैंक जा रही महिला कांटेबल रीता चौबे बच्चे को सदर कोतवाली ले आयी। साथ ही सोशल मीडिया के जरिए बच्चे की तस्वीर प्रसारित कर उसे उसके परिजनों से मिलाने का आह्वान किया। पुलिस की तत्परता के कारण कुछ देर में बच्चे के परिजन उसे खोजने हुए चंदौली कोतवाली पुलिस पहुंचे, जिन्हें पुलिस ने बच्चा सुपुर्द कर दिया। श्वेता केशरी थाना म्योरपुर सोनभद्र निवासी अपनी माइका आजाद नगर वार्ड आठ सुभाष केशर के घर  इंगेजमेंट के कार्यक्रम में सरीक होने आयी थी। जिसका 2 वर्षीय बालक राजवीर केशरी उर्फ वीर घर से खेलते हुए गंगा रोड के पास चला गया।थोड़ी देर बाद जब परिजनों का ध्यान बालक पर गया तो पूरे घर मे हड़कंप मच गया। तभी अपने निजी काम से जा रही महिला कांटेबल रीता चौबे व उनके पति पवन कुमार बच्चे को रोता हुवा देख सदर कोतवाली ले आये।और मीडिया सेल को सूचित किया। पुलिस में तत्परता दिखाते हुए सोशल मीडिया पर बच्चे पर फोटो डाल दिये इससे परिजनों को सूचना मिल परिजन रोते बिलखे सदर कोतवाली पहुच गए।कोतवाली पुलिस ने सकुशल बच्चे को उनको परिजनों को सौंप दिया बच्चे को मिलते ही परिजनों में पुलिस के कार्यों को सराहा।इस दौरान सदर कोतवाल अनिल पांडेय ने कहा कि बच्चा गंगा रोड के समीप एक मिष्ठान की दुकान पर महिला कांस्टेबल रीता चौबे को रोते हुए मिला था जिसे महिला कॉन्स्टेबल सदर कोतवाली ले आई और मीडिया सेल के द्वारा परिजनों से मिलाया बच्चे को सकुशल परिजनों को सौंप दिया गया है।