भाजपाइयों ने फूंका अखिलेश यादव का पुतला, अस्थियां को नाले में किया विसर्जित


चंदौली: सपा मुखिया अखिलेश यादव द्वारा मोहम्मद अली जिन्ना की तारीफ के बाद राजनीति में गरमाहट आ गई है. भारतीय जनता पार्टी ने अखिलेश यादव का विरोध शुरू कर दिया है. चंदौली में भारतीय जनता पार्टी के पदाधिकारियों ने अखिलेश यादव का पुलता फूंका और फिर उस पुतले की अस्थियों को गंदे नाले में विसर्जित कर दिया.समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने जिन्ना को लेकर एक बयान दिया था. जिसमें उन्होंने जिन्ना की तुलना देश की आजादी दिलाने वाले महात्मा गांधी और सरदार वल्लभ भाई पटेल से की थी. उनके इस बयान के बाद देश की सियासत में भूचाल आ गया था. बीजेपी ने इसे देश विरोधी और पाक परस्ती बताते हुए अखिलेश यादव को कठघरे में खड़ा कर दिया. पार्टी के इस बयान से उत्साहित बीजेपी कार्यकर्ताओं ने अखिलेश यादव का पूतला दहन कर उसके राख को गंदे नाले में प्रवाहित किया.जानकारी देते बीजेपी नेता.पूर्व जिलाध्यक्ष राणा प्रताप सिंह ने मुहम्मद अली जिन्ना को देश को बांटने वाला, देश में हत्या कराने वाला, भारत के दो टुकड़े करने वाला करार दिया. कहा कि जो भारत मां को अपमानित किया हो. ऐसे व्यक्ति की तुलना अखिलेश यादव ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी और लौह पुरुष सरदार पटेल से किया. जिन्होंने देश को आजाद कराने के लिए अपने प्राणों की आहुति दे दी हो. ऐसे महापुरुषों की तुलना जिन्ना से करना ये अत्यंत निंदनीय है. अखिलेश यादव ने जिन्ना की तुलना देश के महापुरुषों से करके भारत का अपमान किया है. भारत वासियों का अपमान किया है.

पूर्व जिलाध्यक्ष ने कहा कि इस बयान के विरोध में भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ताओं ने अखिलेश यादव का पुतला फूंका और उसके बाद उन्होंने अखिलेश यादव की अस्थियों को नाले में प्रवाहित किया. यहीं समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव को देशद्रोही बताते हुए उनके इस बयान बचकाना बयान बताया.