9.3 C
New York
Sunday, March 3, 2024

Buy now

तेज रफ्तार पिकअप के धक्के से मां की मौत‚ बेटा घायल

- Advertisement -

मुंडन संस्कार के लिये मिर्जापुर टेम्पू से जा रही थी तेन्दुईपुर गांव की महिलाएं

सकलडीहा। मिर्जापुर शितला माता मंदिर में तेन्दुईपुर गांव की महिलायें सोमवार को सुबह टेम्पू से मुंडन संस्कार के लिये परिवार के बच्चों के साथ जा रही थी। बथावार गांव के समीप मुगलसराय की ओर से आ रही दूध वाली पिकअप ने सामने से टक्कर मार दिया। जिसमें टेम्पू में बैठी 60 वर्षीय वृद्ध महिला की मौके पर मौत हो गयी। वही वृद्ध महिला का बेटा गंभीर रूप से घायल होगया। घटना के बाद आक्रोशित ग्रामीणों ने शव को सकलडीहा अलीनगर मार्ग पर तेन्दुईपुर गांव के समीप रखकर जामकर दिया। हालाकि सूचना मिलते ही प्रभारी कोतवाल भूपेश चन्द्र कुशवाहा मौके पर पहुंचकर उचित कार्रवाई का भरोशा देते हुए जाम समाप्त कराया। वही पीकअप चालक मौका देखकर गाड़ी छोड़ फरार हो गया। पुलिस ने पिकअप को थाने भेजवाते हुए शव को पीएम के लिये जिला अस्पताल भेजवाया। घटना को लेकर परिवार वालों का रो रोकर बुरा हाल था।

बताते हैं कि तेन्दुईपुर गांव निवासी बाला लखेन्दर चौहान 60 वर्षीय अपनी बुढ़ी मां रामदुलारी देवी पुत्री पूजा भाई संजय और अनिता, विमल व अनमोल के साथ टेम्पू से मिर्जापुर मुंडन संस्कार के लिये जा रहे थे। तेन्दुईपुर गांव से थोड़ा दूर बथावर गांव के समीप पहुंचे हुए थे। अचानक सामने से तेज रफ्तार में आ रही दूधवाली पीकअप के जोरदार टक्कर से टेम्पू में बैठी महिलायें दोनों तरफ बच्चे लेकर गिर गयी। वही वृद्ध महिला रामदुलारी पीकप के चपेट में आने से मौके पर मौत होगयी। वही 45 वर्षीय बाला लखेन्दर गंभीर रूप से घायल होगया। घटना के बाद चीख पुकार सुनकर ग्रामीण दौड़ पड़े। परिजनों ने तेन्दुईपुर गांव के समीप शव को सड़क पर रखकर चक्का जाम कर दिया। घटना की जानकारी मिलते ही प्रभारी कोतवाल  ग्रामीणों को उचित कार्रवाई का भरोशा देते हुए जाम समाप्त कराया। इस बाबत प्रभारी कोतवाल भूपेश चन्द्र कुशवाहा ने बताया कि पीकअप को कब्जे में लेकर शव को पीएम के लिये भेजा जा रहा है।

इनसेट में…..

टेम्पू हो गया चिथड़ा पर मासूम बच्चा रहा मां की गोंद में सुरक्षित

फानूस बनके जिसकी हिफाजत हवा करे।वह शमा क्या बुझे जिसे रोशन खुदा करे यह चंद लाइनें बथावर गांव के समीप सोमवार को सुबह चरित्रार्थ होते दिखी। तेन्दुईपुर गांव की पूजा अपने पंाच माह के मासूम सोनू परिवार के साथ टेम्पू से बैठकर दर्शन के लिये जा रहे थे। इतना जबरजस्त दुर्घटना हुई कि टेम्पू के परखच्चे उड़े गये। टेम्पू में बैठे लोग हवा में उड़कर सड़क पर गिर पडे़। पर मासूम अपने मां की गोंद में सुरक्षित रहा। प्रत्यक्ष दर्शियों के अनुसार टक्कर इतना जोरदार होने के बावजूद भी एक वृद्ध महिला को छोड़ सभी सुरक्षित है।इस घटना में वृद्ध महिला रामदुलारी की मौत और बाला लखेन्द्रर के घायल हो जाने के बाद परिजन चिख चिखकर रो रहे थे। सहयोग का गुहार लगाते लगाते बेसुध हो जा रहे थे। घटना को देख लोग मर्माहत थे।

Related Articles

Ad

Stay Connected

0FansLike
3,912FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Latest Articles

You cannot copy content of this page

Verified by MonsterInsights