चंदौली:ग्रामीणों को भगाने के बजाय घटना स्थल पर रेस्क्यू करती पुलिस, को बच जाती छोटू की जान

चंदौली।शहाबगंज। चकिया चंदौली मार्ग पर मुरकौल गांव के सामने बुधवार की रात बिहार से लखनऊ जनवादी पार्टी के रैली में जा रही बस पलट गई थी। जिसके कारण जहां सभी पार्टी के कार्यकर्ताओं को मामूली चोटे आयी थी जिन्हें प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में इलाज़ करा कर छोड़ दिया गया था। वही घटना के बाद से चालक लापता था। घटना के बाद मौके पर पहुची पुलिस ने चालक को ढूढने के फरार बता रही रही थी। वही मृतक के भाई सलाउद्दीन का आरोप है। कि पुलिस घटना स्थल से छोटू को खोजने के बजाय सभी ग्रामीणों व आस पास के लोगो को वहाँ से भगा कर खुद वापास चली गयी। जब सुबह क्रेन से बस को बाहर निकाला गया। तो बस के नीचे छोटू का शव मिला जिसके वजह से बस के नीचे दबकर छोटू की मौत हो गयी।
बता दे कि शहाबगंज निवासी छोटू 32 इलिया से मुगलसराय मार्ग पर यूपी 67एटी6980 नंबर की बस चलाता था।बुधवार को भभुआ से जनवादी पार्टी की रैली लखनऊ में सामिल होने के लिए 15 कार्यकर्ताओं को बैठाकर लखनऊ जा रहा था।बुधवार की रात्रि मुरकौल गांव के पास अचनाक बस अनियंत्रित हो कर विजली के खम्भे में टक्कर मारती हुई गढ्ढे में पलट गयी। बस में सवार सभी कार्यकर्ताओं को मामूली चोट आयी जिन्हें इलाज़ कर छोड़ दिया गया। वहीं छोटू की बस के नीचे दब कर मर गया। इससे इसकी मौत हो गयी थी। मौत की खबर सुनते ही परिजन दहाड़े मार कर रोने लगे मृतक अपने पीछे पत्नी के साथ चार बच्चों को छोड़ गया।। इस दौरान एएसपी ऑपरेशन सुखराम भर्ती ने बताया कि बस 17 लोगो को लेकर लखनऊ जा रही थी लेकिन बस अचानक अनियंत्रित हो कर पलट गई थी जिसके नीचे दब कर चालक की मौत हो गयी थी। शव को कब्जे में कर पोस्टमार्टम कराया जा रहा है।