चंदौली जिला न्यायालय व मुख्यालय के लिए आंदोलन करेंगे अधिवक्ता

चंदौली कचहरी में न्यायालय व मुख्यालय के लिए चर्चा करते अधिवक्ता।
चंदौली कचहरी में न्यायालय व मुख्यालय के लिए चर्चा करते अधिवक्ता।

बैठक कर अधिवक्ताओं ने बनाई रणनीति, प्रेसवार्ता कर तय करेंगे रूपरेखा

Young Writer, चंदौली। सिविल बार एसोसिएशन व डिस्ट्रिक्ट डेमोक्रेटिक बार एसोसिएशन की संयुक्त बैठक शुक्रवार को बार भवन में हुई। इस दौरान अधिवक्ताओं ने दीवानी न्यायालय भवन निर्माण में जिलाधिकारी चंदौली के उदासीन रवैया के कारण विलंब होने का आरोप लगाया। साथ ही जिला स्तरीय प्रमुख कार्यालयों व स्टेडियम को तहसील मुख्यालय के बाहर नियम विरुद्ध तरीके से ले जाने के प्रस्ताव पर विरोध दर्ज कराया। नाराज अधिवक्ताओं ने पूरे दिन कार्य बहिष्कार जारी रखा और शनिवार को भी हड़ताल जारी रखते हुए प्रेसवार्ता करेंगे। 

इस दौरान अधिवक्ताओं ने जिलाधिकारी व स्थानीय जनप्रतिनिधियों पर जनपद मुख्यालय के विकास में भेदभाव करने का आरोप लगाया। कहा कि मद्धूपुर में पूर्व पारित प्रस्ताव के विपरीत स्टेडियम का धरहरा सकलडीहा में स्थापित करने का प्रयास पूरी तरह से गलत है जिसका अधिवक्ता पूरी तरह से विरोध करते हैं। कहा कि विकास भवन, पुलिस लाइन, जिला जेल का निर्माण जिला बनने के लगभग 25 साल बाद भी आज तक नहीं किया गया जिसकी वजह से जनपद चंदौली अपने मूर्तरूप में स्थापित नहीं हो सका है। इसके लिए जिला प्रशासन व जनप्रतिनिधियों की उदासीनता जिम्मेदार है। जिले के विकास व जनहित की लड़ाई में अधिवक्ता शुरू से ही अग्रिम पंक्ति में खड़ा होकर उठाता हा है। लेकिन आज शासन-प्रशासन पर कोई असर नहीं हुआ। न्यायालय में भी सीमित संसाधन व इन्फ्रा स्ट्रक्चर के अभाव में फरियादियों को त्वरित न्याय नहीं मिल पा रहा है जिसकी परिकल्पना संविधान में की गयी है।