नौगढ़ में सर्पदंश पीड़ित को नहीं मिली एंबुलेंस सेवा, ईलाज के अभाव में हो गई मौत 

नौगढ़ सीएचसी पर सर्पदंश पीड़ित की मौत के बाद मौजूद परिजन।
नौगढ़ सीएचसी पर सर्पदंश पीड़ित की मौत के बाद मौजूद परिजन।

Young Writer, नौगढ़। सर्प दंश से चकरघट्टा थाना क्षेत्र के जरहर गांव निवासी विजयी खरवार 48 वर्ष की सोमवार को अपरान्ह मे ईलाज के दौरान सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में मौत हो गई। शव को रखकर अस्पताल में परिजनों व ग्रामीणों ने चिकित्सकों पर लापरवाही बरतने व ससमय एंबुलेंस की उपलब्धता नहीं होने का आरोप लगाते जमकर बवाल काटा। भाजपा मंडल अध्यक्ष भगवानदास अग्रहरी व ग्राम प्रधान पति अशोक यादव की पहल पर चिकित्सा अधीक्षक सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र डा.अवधेश कुमार सिंह ने वार्ता कर के आक्रोशित लोगों को शांत कराया।

बताया जाता है कि जरहर गांव निवासी विजयी खरवार को सोमवार को दोपहर में अपने घर के बरामदे में सोया हुआ था। उसी समय सर्प ने डंस लिया। जिसकी जानकारी होते ही उसका पुत्र दिलीप खरवार ने पड़ोसियों के साथ निजी साधन से उसको सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र पहुंचाया। जहां पर प्राथमिक उपचार करके चिकित्सकों ने जिला संयुक्त चिकित्सालय चकिया के लिए रेफर कर दिया। मौके पर एंबुलेंस की उपलब्धता नहीं होने से काफी विलंब होने के कारण अस्पताल मे ही उसकी मौत हो गई। आक्रोशित परिजनों व ग्रामीणों ने शव को अस्पताल के सामने रखकर के घंटों बवाल काटा। आरोप लगाया कि सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में मौजूद सर्प दंश का इंजेक्शन को चिकित्सकों ने नहीं लगाया।और चकिया के लिए रेफर किए जाने के कई घंटे बाद तक भी एंबुलेंस की उपलब्धता नहीं करायी गयी। समय पर इंजेक्शन लगा दिया गया होता या रेफर किए जाने पर एंबुलेंस मिल गई होती तो मृतक की जान बच सकती थी। सूचना पर पहुंची चकरघट्टा थाना पुलिस शव को कब्जे में लेकर के अग्रिम कार्यवाही मे जुट गई है।