कार्यवाई: वर्चस्व की जंग में पत्थरबाजी करने वाले सात आरोपियों को पुलिस ने किया गिरफ्तार

सकलडीहा। क्षेत्र के नोनार और पीथापुर गांव के युवाओं के बीच वर्चस्व की लड़ाई में लाठी डंडे के साथ जमकर पत्थरबाजी हुई है। घटना को लेकर पुलिस अधीक्षक अंकुर अग्रवाल सहित चार थाने की पुलिस और पीएसी फोर्स पहुंचकर भीड़ को तितर वितर किया। इस मामले में कोतवाली पुलिस ने 17 नामजद सहित 45 अज्ञात के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है। घटना में शामिल सात लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। पुलिस की कार्रवाई से खलबली मची है।

पीथापुर गांव का गोपी राजभर एक सप्ताह पूर्व कसवड़ गांव अपने रिश्तेदार के घर गया हुआ था। वहां गांव के लोगों से विवाद करने पर युवकों ने पीट दिया। घटना के बाद तीन पूर्व कसवड़ गांव के युवक नोनार पहुंचे हुए थे। जानकारी होने पर पीथापुर गांव के युवकों ने पीट दिया। मारपीट के कुछ घंटे बाद कसवड़ गांव के युवक नोनार गांव के युवकों के साथ पीथापुर के एक दूसरे युवक को पीट दिया। घटना की जानकारी होने पर पीथापुर और नोनार गांव के लोग आमने सामने लाठी डंडे के साथ पत्थर बाजी करने लगे। सूचना पर पहुंचे एसपी सहित पुलिस फोर्स पीएचसी ने किसी तरह मामले को शांत कराया। पत्थर बाजी में कोतवाल को भी चोट लगने की बात बताया गया। घटना को लेकर कोतवाली पुलिस ने 17 नामजद सहित 45 अज्ञात के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर आरोपियों को गिरफ्तार करने में जुट गयी। इसी बीच मुखबीर की सूचना पर सात आरोपी जितेन्द्र राय, बिट्टू उर्फ राज राय, रोहित उर्फ प्रधान, मनीष यादव, दीपक यादव, उदयी यादव और गोपी राजभर को पकड़कर पुलिस ने विभिन्न् संगीन धाराओं में जेल भेज दिया। इस बाबत सीओ राजेश कुमार राय ने बताया कि कोई आरोपी बख्सा नही जायेगा। गिरफ्तारी टीम में कोतवाल विनोद मिश्रा, भूपेश कुशवाहा, मोहन प्रसाद, शिव कुमार गिरी, सिपाही विनय यादव, रामबहादूर यादव, अमित गुप्ता, विजय पाठक रहे।