पढ़ी लिखी नारी‚ हर घर की उजियारीः सारिका दुबे

अंतर्राष्ट्रीय बालिका दिवस पर आयोजित कार्यक्रम में उपस्थित अतिथिगण।
अंतर्राष्ट्रीय बालिका दिवस पर आयोजित कार्यक्रम में उपस्थित अतिथिगण।

खुशी की उड़ान संस्था ने मनाया अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस

Young Writer, डीडीयू नगर। आज बेटियां हर क्षेत्र में अपना परचम लहरा रही हैं। पहले जहां बेटियों के पैदा होने पर भी उन्हें बाल विवाह जैसे कुप्रथा में झोंक दिया जाता था, वहीं आज बेटी होने पर लोग गर्व करते हैं। सरकार व समाजसेवी संस्थाओं ने भी महिलाओं को सशक्त बनाने में कोई कसर नही छोड़ी है। इसी के क्रम में महिला एवं बाल विकास विभाग एवं महिलाओं एवं दिव्यांगों पर काम करने वाली संस्था खुशी की उड़ान ने अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस सप्ताह के अवसर पर पूर्व मध्य रेलवे इंटर कॉलेज में जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन किया।

इस अवसर पर महिला कल्याण अधिकारी दीक्षा अग्रहरि ने किशोरियों को जागरूक करते हुए कहा की महिलाओं के सुरक्षा एवं सुविधा के लिए विभिन्न योजनाएं संचालित है जैसे 1090 वीमेन पॉवरलाइन, 181 महिला हेल्पलाइन, 1076 मुख्यमंत्री हेल्पलाइन, 112 तत्काल पुलिस सेवा एवं 108 एम्बुलेंस एवं 1098 चाइल्ड लाइन है। इन नम्बरों पर सम्पर्क कर मदद ली जा सकती है। इसके साथ-साथ कन्या सुमंगला योजना, बेटी बचाओ एवं बेटी पढ़ाओ जैसी अनेक योजनाएं चल रही है। सभी को इसका लाभ लेना चाहिए। खुशी की उड़ान संस्था की संस्थापिका सारिका दुबे ने शिक्षा पर बल देते हुए कहा कि पढ़ी लिखी नारी घर की उजियारी, एक पुरुष यदि पढ़े तो उसकी पढ़ाई सिर्फ उसी के काम आती है पर यदि महिला पढ़ी हो तो उसकी पढ़ाई पीढ़ियों तक काम आती है। महिला का अनुसरण करके उस परिवार का रहन-सहन, खान-पान ,बातचीत का तरीका बदल जाता है,एवं नई पीढ़ी स्वतः की पढ़ाई की ओर अग्रसर हो जाती हैं। प्रधानाचार्य मेजर अमरेंद्र सिंह ने कहा कि महिला के सम्मान एवं सुरक्षा सिर्फ सरकार की जिम्मेदारी नहीं है, यह हम सबकी नैतिक जिम्मेदारी है। खुशी की उड़ान संस्था महिलाओं और दिव्यांगों के लिए अतुलनीय एवं ईश्वरीय कार्य कर रही है। इस अवसर पर वन स्टॉप सेंटर की केस वर्कर अर्चना, संस्था महासचिव खुशी की उड़ान, सचिव विकास गुप्ता, रितिक कुमार, सुदीक्षा, अंकित सिंह, विशाल उपस्थित रहे।