चंदौली का स्वास्थ्य महकमा अवैध अस्पताल व जांच केंद्रों के खिलाफ सख्त

कार्यवाही

डीएम चंदौली के निर्देश पर स्वास्थ्य विभाग ने की कई अस्पतालों के खिलाफ कार्यवाही

Young Writer, चंदौली। जिलाधिकारी ईशा दुहन के निर्देश पर स्वास्थ्य विभाग द्वारा जनपद में संचालित अवैध नर्सिंग होम, चिकित्सालयों व झोलाछाप डॉक्टरों के खिलाफ स्वास्थ्य विभाग की ओर से कार्यवाही की गई। मुख्य चिकित्साधिकारी ने बताया कि गत दिनों की गई छापेमार कार्यवाही के दौरान चकिया में एक निजी अस्पताल को सीज करने के साथ ही धानापुर एक निजी अस्पताल का लाइसेंस रद्द करने के साथ ही जांच केंद्र को सील कर दिया गया है। साथ ही नौगढ़ के एक पैथालाजी सेंटर को बंद करने के निर्देश दिए गए हैं, वहीं दूसरे के खिलाफ कार्यवाही की जाएगी।
सीएमओ डा.वाईके राय ने बताया बीते 13 अक्टूबर को उप मुख्य चिकित्साधिकारी चकिया तथा प्रभारी चिकित्साधिकारी प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र चकिया के संयुक्त टीम के द्वारा मॉ भगवती हास्पिटल चकिया एवं न्यू ग्लोबल डाइग्नोस्टिक सेन्टर चकिया का निरीक्षण किया गया, जिसमें हास्पिटल के रजिस्टेªशन का तिथि समाप्त हो चुका था, नवीनीकरण नही कराया गया था। उसे तत्काल सील करते हुए तुरन्त नवीनीकरण के आदेश दिये गये। न्यू ग्लोबल डाइग्नोस्टिक सेन्टर के पास कोई भी रजिस्टेªशन से सम्बन्धित अभीलेख नहीं था, जिससे उसे बन्द करने के निर्देश दिए गए।
बीते 19 अक्टूबर को उपजिलाधिकारी सकलडीहा के नेतृत्व में अपर मुख्य चिकित्साधिकारी धानापुर एवं प्रभारी चिकित्साधिकारी सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र, धानापुर के संयुक्त टीम द्वारा उपजिलाधिकारी के निर्देश पर शिवांश हास्पिटल एवं हाईटेक डाइग्नोस्टिक सेन्टर का औचक निरीक्षण किया गया, जिसमें शिवांश हास्पिटल में कोई भी प्रशिक्षित चिकित्सक उपस्थित नही था, जबकि अस्पताल में सीजेरिन आपरेशन के द्वारा सात बच्चे पैदा कराये गये थे। साथ ही एक गालब्लेडर का आपरेशन किया हुआ मरीज मिला। उक्त आपरेशन किसी चिकित्सक के द्वारा किये गये थे, इसकी कोई भी सूचना उपलब्ध नहीं थी। मरीजों के चिकित्सकीय सेवा में लापरवाही को देखते हुए जानकारी वहां के प्रबन्धक द्वारा सन्तोषजनक नहीं दिया गया। जिस पर अस्पताल का रजिस्टेªशन समाप्त करने के निर्देश दिये गये। इसके पश्चात हाईटेक डाइग्नोस्टिक सेन्टर का निरीक्षण किया गया जिसमें उनके द्वारा प्रस्तुत किये गये अभिलेख अपूर्ण थे, जिस पर उपजिलाधिकारी उसे तत्काल सील करने के निर्देश दिए।
21 अक्टूबर को उपजिलाधिकारी नौगढ़ के नेतृत्व में शिवम एवं संगम पैथोलाजी का औचक निरीक्षण किया गया, जिसमें शिवम पैथोलाजी में मौजूद स्टॉफ के द्वारा बताया गया कि सारे पेपर संचालक के पास मौजूद है जो अभी बाहर गए है। वहां कार्यवाही आपेक्षित है तथा संगम पैथोलाजी में किसी भी प्रकार का कोई बोर्ड एवं कागजात नहीं पाए गए, परन्तु उनका परिवार उसी बिल्डिंग में निवास करता है, अतः उसे सील करना सम्भव नही हुआ। कड़ी चेतावनी देते हुए बन्द करने के निर्देश दिये गये तथा भविष्य में खुला हुआ पाया गया तो सम्बन्धित पैथोलाजी जॉच घर पर एफआईआर. दर्ज करने की कार्यवाही होगी।