9.3 C
New York
Sunday, March 3, 2024

Buy now

गंगा कटान से छिन रहा किसानों का खेत व मकानः मनोज डब्लू

- Advertisement -

फोटो-01
गंगा तट पर कटान की समस्या को देखते सपा नेता मनोज सिंह डब्लू।


बोले, गंगा कटान समस्या का समाधान करने में भाजपा के लोग नाकाम
चंदौली। समाजवादी पार्टी के दिग्गज नेता व सैयदराजा के पूर्व विधायक मनोज सिंह डब्लू मंगलवार को गंगा तट पर पहुंचे। इस दौरान झमाझम बारिश के बीच उन्होंने गंगा कटान की भयावता को देखा और स्थानीय किसानों व ग्रामीणों के दर्द को महसूस किया। उन्होंने नौ साल चंदौली बदहाल अभियान को गति देने हुए न केवल भाजपा के सांसद व सैयदराजा विधायक की नाकामियों को गिनाया और नशाना साधा। साथ ही गंगा कटान रोकने के अपने असफल प्रयास पर भी दुख जताया।


इस दौरान उन्होंने कहा कि बारिश का मौसम है और गंगा कटान से तटीय इलाके के किसान परिवार खौफजदा हैं क्योंकि हर बार की तरह इस बार भी कई किसानों के खेत गंगा की धारा में समा जाएंगे, वहीं कुछ का आशियाना भी कटान की भेंट चढ़ जाएगा। जैसा कि विगत कई वर्षों से होता चला आ रहा है। कहा कि जब मैं निर्वाचित होकर विधानसभा पहुंचा तो नया-नया था और मैंने गंगा कटान के मुद्दे को कई बार पुरजोर तरीके से उठाया। लेकिन अनुभव की कमी के कारण समस्या को सही तरीके से रख नहीं सका। मैंने गंगा कटान की बात की, लेकिन कभी भी उसमें जिला, विधानसभा व क्षेत्र का उल्लेख नहीं किया। इस कारण चंदौली में गंगा कटान को रोकने से जुड़ी मांग अधूरी रह गयी। कहा कि वर्तमान में सांसद व सैयदराजा विधायक को जनता के बीच आकर यह बताना चाहिए गंगा कटान को रोकने के लिए क्या प्रयास किए। लेकिन वह ऐसा करने की बजाय जनहित में समस्या को उठाने वालों पर आईटीसेल के जरिए व्यक्तिगत हमला करने का काम कर रहे हैं जो दुखद व दुर्भाग्यपूर्ण है। कहा कि जनहित के मुद्दों पर भाजपा की पोल खोलने से सत्ता पक्ष के कई नेताओं के पेट में दर्द हो रहा है। जनता को जागरूक होता देख उसके पेसानी पर बल पड़ने लगा है। ऐसी में चंदौली जनपद में भाजपा का आईटी सेल सक्रिय हो गया है। यह भी कहा कि गंगा कटान से तटीय इलाके के किसानों व ग्रामीणों को निजात दिला पाना भाजपा के नेताओं की बस की बात नहीं है। भरोसा दिया कि विधायक बनने के बाद गंगा कटान जैसी गंभीर समस्या के निराकरण के लिए प्राथमिकता के साथ काम होगा, ताकि किसी का घर-मकान व खेत-खलिहान कटान की जद में आकर गंगा में समाहित ना हो सके।

Related Articles

Ad

Stay Connected

0FansLike
3,912FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Latest Articles

You cannot copy content of this page

Verified by MonsterInsights