13 C
New York
Monday, May 20, 2024

Buy now

अपनी कुशलता व मेहनत से बच्चों को शिक्षित कर संवारता है शिक्षकः कुंवर वीरेंद्र प्रताप

- Advertisement -

कंपोजिट विद्यालय हथियानी में धूमधाम मना शिक्षक दिवस
Chandauli News: देश के पहले उपराष्ट्रपति डा. सर्वपल्ली राधाकृष्णन की जयंती मंगलवार को जनपद में धूमधाम से शिक्षक दिवस के रूप में मनाई गई। इस दौरान स्कूल-कालेज व शिक्षण संस्थाओं में विविध कार्यक्रम आयोजित हुए। विद्यार्थियों ने अपने गुरुजनों को पूजा, उन्हें उपहार भेंट किया और केक काटकर शिक्षण दिवस को मनाया। वहीं गुरुजन भी बच्चों के स्नेह को पाकर अभिभूत हो उठे और उन्हें शिक्षा प्राप्त कर बेहतर इंसान बनने के लिए प्रेरित किया। साथ ही डा.सर्वपल्ली राधाकृष्णन की जीवनी के बारे में बताया।

 हथियानी स्कूल में बच्चों को शिक्षक दिवस के बारे में जानकारी देते प्रधानाध्यापक कुंवर वीरेंद्र प्रताप सिंह।
हथियानी स्कूल में बच्चों को शिक्षक दिवस के बारे में जानकारी देते प्रधानाध्यापक कुंवर वीरेंद्र प्रताप सिंह।

इसी क्रम में सदर ब्लाक क्षेत्र के कंपोजिट विद्यालय हथियानी में शिक्षक दिवस धूमधाम से मनाया गया। इस दौरान बच्चों ने गुरुजनों के सम्मान में सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित किया। इस दौरान नृत्य, गीत-संगीत की प्रस्तुति बच्चों द्वारा की गई। इसके अलावा बच्चों द्वारा लाए गए केक को गुरुजनों ने काटकर शिक्षक दिवस मनाया। तत्पश्चात विद्यालय परिसर में खेलकूद प्रतियोगिता का आयोजन किया गया, जिसमें स्कूली बच्चों ने प्रतिभाग कर अपनी खेल प्रतिभा का प्रदर्शन किया।

इस मौके पर प्रधानाध्यापक कुंवर वीरेंद्र प्रताप सिंह ने बताया कि गुरु अपने शिष्य का मार्गदर्शन करके उसे सही राह दिखाता है जिससे वह बिना भटके अपने लक्ष्य की प्राप्ति के लिए मंजिल की ओर बढ़ता है। शिक्षक अपनी कुशलता व मेहनत से बच्चों के जीवन में कौशल व ज्ञान का रंग भरने का काम करते हैं। गुरु की भूमिका को समाज में अग्रणी माना गया है क्योंकि गुरु एक बेहतर समाज के निर्माण की सबसे महत्वपूर्ण कड़ी है। वह बच्चों में शिक्षा के साथ ही संस्कार की नींव को सींचता है, जिससे बच्चे आगे चलकर न केवल खुद के भविष्य को उज्जवल बनाते हैं, बल्कि अपने ओज और सफलता से समाज को भी प्रकाशमान करने का काम करते हैं। इसके पूर्व शिक्षकों व स्कूली छात्र-छात्राओं डा. सर्वपल्ली राधाकृष्णन के चित्र पर पुष्प अर्पित कर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की। साथ ही शिक्षकों ने पुरानी पेंशन की बहाली के लिए सरकार के विरोध में बांह पर काली पट्टी बांधकर कार्य किया। इस अवसर पर अजीत कुमार सिंह, सउद अहमद, रवि मिश्र, नवमालिका बैद्य, रामाज्ञा तिवारी आदि उपस्थित रहे।

Related Articles

Election - 2024

Latest Articles

You cannot copy content of this page

Verified by MonsterInsights