किसान नेता मणिदेव की रिहाई डीएम दफ्तर पहुंचा भारतीय किसान यूनियन

चंदौली कलेक्ट्रेट में प्रशासनिक अधिकारी को ज्ञापन सौंपते किसान।
चंदौली कलेक्ट्रेट में प्रशासनिक अधिकारी को ज्ञापन सौंपते किसान।

चंदौली कलेक्ट्रेट में प्रशासनिक अधिकारी से मिला भाकियू का दल

Young Writer, चंदौली। भाकपा माले का पांच सदस्य प्रतिनिधिमंडल भारतीय किसान यूनियन टिकैट गुट के मंडल प्रवक्ता मणिदेव चतुर्वेदी की गिरफ्तारी के खिलाफ जिलाधिकारी के नाम मांग पत्र लेकर सोमवार को कलेक्ट्रेट पहुंचा। इस दौरान कलेक्ट्रेट में प्रशासनिक अधिकारी से मिलकर ज्ञापन सौंपा और बिना शर्त रिहाई की मांग की गई।
भाकपा माले राज्य कमेटी सदस्य शशिकांत सिंह ने कहा कि एक बार फिर भाजपा की योगी सरकार का किसान विरोधी चेहरा चंदौली में देखने को मिला भारतीय किसान यूनियन के मंडल प्रवक्ता मंडिदेव चतुर्वेदी की गिरफ्तारी कर भाजपा के राज्य गृह मंत्री अजय मिश्रा टेनी द्वारा की गई किसान हत्या की मानसिकता को बढ़ावा देना है मणि देव चतुर्वेदी तीन काले कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली में चल रहे किसान आंदोलन में सक्रिय रहे चंदौली में किसान आंदोलन को तेजी से आगे बढ़ा रहे है निशा यादव को न्याय दो चल रहे चंदौली में क्रमिक अनशन में अपनी पत्नी समेत खुद 50 घंटे की भूख हड़ताल पर बैठे साथ ही किसान यूनियन के सदस्यों को 50 घंटे की भूख हड़ताल पर बै ठाते रहे हैं जनता की मांगों को लेकर दिनांक 10 सितंबर 2022 को बबुरी थाना दिवस मैं अधिकारियों से मिलने अपने किसान नेताओं संग पहुंचे थे जहां पर मुगलसराय का तहसील प्रशासन समेत बबुरी के थाना अध्यक्ष उनकी मांगों को सुनने के बजाय आग बबूला होकर सरकारी कामकाज में बाधा का मुकदमा डालकर 2 किसान नेताओं को चौकाघाट कारागार भेज दिया गया भाकपा माले इस पूरी घटना की कड़ी निंदा करती है व जिला प्रशासन से बिना शर्त रिहाई की मांग करती है। प्रतिनिधिमंडल में शशिकांत सिंह, रमेश राय, उमानाथ चौहान, श्याम देई,कृष्णा राय शामिल रहे।