प्रतिभा को सम्मानः चंदौली की सारिका दुबे को मिला अंतरराष्ट्रीय पुरस्कार

सारिका दुबे

अंतरराष्ट्रीय पुरस्कार से चंदौली की बेटी सारिका दुबे को किया गया सम्मानित

Young Writer, चंदौली। जिले की सारिका दुबे ने दिव्यांगता के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य करने के लिए अंतरराष्ट्रीय पुरस्कार से सम्मानित होकर जिले का नाम रोशन किया। ऑल इंडिया दिव्यांग क्रिकेट एसोसिएशन द्वारा आईटी मैदान पर भारत और बांग्लादेश के बीच आयोजित दिव्यांग क्रिकेट प्रतियोगिता में दिव्यांगता के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य करने के लिए सारिका दुबे को अंतरराष्ट्रीय एथलीट अर्जुन अवॉर्डी,पद्मश्री दीपा मलिक द्वारा अंगवस्त्रम् और स्मृति चिन्ह प्रदान कर सम्मानित किया गया। इस अवसर पर प्रदेश के युवा कल्याण एवं खेल मंत्री गिरीश यादव भी उपस्थित रहे।

सारिका दुबे

सारिका दुबे पिछले 6 वर्षों से दिव्यांगता के क्षेत्र में कार्य कर रही हैं जिसमें दिव्यांगों के ट्राई साइकिल पर छतरी लगाना उन्हें धूप,बारिश से बचाना और उनकी साइकिल पर दुकान लगाकर उन्हें रोजगार और आत्मनिर्भर भारत की तरफ अग्रसर करके सम्मानजनक जीवन जीने के लिए प्रेरित करने जैसे उत्कृष्ट कार्य करती हैं। इस अवसर पर दीपा मलिक ने कहा कि हर युवा को अपने समाज के उत्थान के लिए सोचना जरूरी है इस उम्र में सारे समाज के प्रति सारिका का समर्पण प्रशंसनीय है। दीपा मलिक ने कहा यदि सारिका जैसा सभी युवाओं का विचार होगा, तभी समाज की अपंगता को दूर किया जा सकता है और कहा कि बनारस एक एहसास की अनुभूति हैं। इस पुण्य धरती से उन्होंने अपने पिता द्वारा लिखित उनके ऊपर कविता प्यारी दीपा बेटी सुनाकर सभी को भाव-विभोर कर दिया। इस अवसर पर ऑल इंडिया दिव्यांग क्रिकेट एसोसिएशन के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ उत्तम ओझा, राष्ट्रीय महासचिव डॉ संजय चौरसिया, आहिल खान, भावेश सेठ, मदन मोहन वर्मा, राकेश रोशन, डॉ भारत भूषण यादव तथा अन्य ने बधाई देकर प्रसन्नता व्यक्त किया।